Ayaz ismail - Dil ki shikayat
Overige artiesten: Mohit chauhan

एक गुफ्तगू तारों से की
बातें ज़रा शायराना
जो गा रहा बदली सी धुन
सुनली तूने बताना
तेवर इस दिल के
अगले पिछले से
अदले बदले से है ना
अब ऐसे बाहर
फिसले फिसले से
हद से निकले से है ना
दिल की शिकायत
बढ़ती है राहत
कैसी शरारत कर गयी है मेरी जान तू
जन्मो जन्मो का करके बहाना
दिल का नज़राना ले गयी है मेरी जान तू

हम्म
साँसे मलंग बनके पतंग
हो मस्त मौला पींगे में मरूंगा
तू ही ज़मीन तू आसमा
साया में तेरा ढींगे में मरूंगा
उम्र बहका दिल के घरका
किराया दिन सौदा में तुझसे करलु
दिल की शिकायत
बढ़ती है राहत
कैसी शरारत कर गयी है मेरी जान तू
जन्मो जन्मो का करके बहाना
दिल का नज़राना ले गयी है मेरी जान तू
दिल की शिकायत
दिल की शिकायत
बढ़ती है राहत
कैसी शरारत कर गयी है मेरी जान तू
जन्मो जन्मो का करके बहाना
दिल का नज़राना ले गयी है मेरी जान तू

Lyrics licensed by LyricFind