Durgesh r rajbhatt - Lamhe fizool ke
Overige artiesten: प्रशांत सातोसे

जाने क्यूँ आज फिर याद तेरी आई है
ह्म खामखा आज फिर आँख भर आई है
हो, बीते जो सौबत में
हाँ, तेरी ही चाहत में लम्हे फ़िज़ूल के
होंटों पे आज तेरा नाम जब आया ...

Lyrics licensed by LyricFind