K.c. loy - Apna matt do

अपना मत दो बहाने बना बना के खुद को ही बनाओगे
युंही शिकायतों से तुम क्या निभाओगे

हक है खुश रेहना तेरा
हक से कुछ केहना भी इस
हक से पेहले तेरा इक
हक है चुनना भी..

अपना मत दोगे तो होगा उद्धार
अपने ही हाथों कर खुद पे उपकार
अपना मत दोगे तो होगा उद्धार
अपने ही कल पे तु करले ये उपकार

बैठे बैठे...
बैठे बैठे ही सारे क्यूँ चाहे चमत्कार


अपना मत दोगे तो होगा उद्धार
अपने ही हाथों कर खुद पे उपकार

इक वीर वो सीमा पे
इक सैनिक तुम भीतर
जितना दम बंदूको में
उतना तेरे मत में दम

अपने जान-ए-वतन का तु ही जीम्मेदार
बन के चिंगारी आ करदे रोशन रात
अपना मत दोगे तो होगा उद्धार
अपने ही हाथों कर खुद पे उपकार

बैठे बैठे फीर ना केहना कैसी ये सरकार
अपना मत दोगे तो होगा उद्धार
अपने ही हाथों कर खुद पे उपकार

Lyrics licensed by LyricFind